Thu. Oct 6th, 2022
पितरों को प्रसन्न करने के 10 अचूक उपाय

पितरों को प्रसन्न करने के 10 अचूक उपाय – श्राद्ध का कार्य पूर्बजो के ऋण चुकाने का सबसे आसान रास्ता है। श्राद्ध के 16 दिनों में श्राद्ध, पिंडदान आदि करने से पितृ प्रसन्न रहते हैं। पितृ दोष से भी मुक्ति इन्हीं दान से मिलती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें जिस किसी की भी कुंडली में पितृ दोष होता है उनके जीवन में बहुत सी दिक्क़ते आने लगती हैं जैसे संतान की प्राप्ति न होना, नौकरी व कारोबार में मेहनत करने के बाद भी प्रगति न होना और अत्यंत नुकसान झेलना पड़े, मानसिक तनाव, किसी भी काम में सफलता न मिलना, परिवार में किसी न किसी की सेहत खराब रहना और जीवन में होने वाले शुभ कार्यों में बाधाएं आना आदि। ऐसे में ये बेहद जरूरी है कि पितृ दोष के कारणों को समय रहते हैं भांप लें ताकि इन्हें दूर किया जाए।

पितरों को प्रसन्न करने के उपाय

आज हम आप को पितरो को प्रसन्न करने के 10 अचूक उपाय बता रहे है। जिसे आप अपने पितरो को प्रसन्न कर के उनका आशिर्बाद ले सकते है और अगर आप के ऊपर या आप के घर में पितृ दोष है तो उसे मुक्ति पा सकते है।

  1. श्राद्ध के दिनों में प्रति दिन तिल मिला जल अपने पितरो को अर्पित करना चाहिए। जिसे की पितृ प्रसन्न होते है और अपने जातक को आशीष देते है।
  1. श्राद्ध के दिनों में अपने पितरो को जौ के आते में तिल मिला पिंड बना कर पिंड दान करे और अपने पितरो की पूजा करे।
  1. श्राद्ध के दौरान रोज श्रीमद्भागवत गीता का पाठ करना चाहिए और भगवान से प्रार्थना करनी चाहिए कि इसका फल हमें पितरों को प्राप्त हो। अगर स्वयं गीता का पाठ आप नहीं कर सकते तो किसी योग्य ब्राह्मण से भी ये काम करवा सकते हैं।
  1. अपनी इच्छा अनुसार गरीबो और असहाय को भोजन, कपड़े, बर्तन, व् कुछ पैसो का दान करें।।जिसे आप के पितृ प्रसन्न होंगे।
  1. श्राद्ध क दिनों में जब भी आपका मन करे किसी ब्राह्मण को कच्चे भोजन का दान करें। कच्चे भोजन से अर्थ है- गेंहू, चावल, दाल, घी, हल्दी, नमक, मिर्ची आदि चीजें श्रद्धा पुर्बक दान करे और उनका आशीष ले।
  1. कौंवे ,गाय और कुत्ते को प्रति दिन भोजन कराने से पितृ खुश होते और अपने परिवार को आशिर्बाद देते है।
  1. श्राद्ध के दिनों में जितना हो सके ओतना तुलसी जी का पत्ता इस्तमाल करे। इसे पितृ की आत्मा को शांति मिलती है और वह आशिर्बाद देते है।
  1. श्राद्ध के दिनों में शिव जी को जल चढाने और हनुमान चलिशा की पाठ करने से पितृ प्रसन्न होते है और वह अपने परिवार वालो को आशिर्बाद देते है।
  1. श्राद्ध के दिनों में किसी भी लड़ाई झगड़ा नहीं करना चाहिए और न ही किसी महिला और गरीब को अपमान करना चाहिए। अगर आप ऐसे करते है तो आप के पितृ नराज हो सकते है।
  1. श्राद्ध के पूरे 16 दिन तक शुद्ध शाकाहारी भोजन करना चाहिए और खाने में लहुसन ,प्याज, चना ,मसूर की दाल अरबी की सब्जी से परहेज करना चाहिए।

अगर आप के बेटी दामाद और आप के बेटी के पोते आप के घर के आप के भोजन करते है तो इसे आप के पितृ प्रसन्न होते है और आप को आशिर्बाद देंगे।

अपने पितरो को प्रसन्न करने के लिए और उनका आशिर्बाद लेने के लिए क्या करना है और क्या ना करना है इसके बारे में जानकारी लेने के लिए आज ही हमारे बाबा जी से निशुल्क में बात करे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Call Now ButtonCall Now